लव डायरीज

LOVE STORIES IN HINDI

याद है तुम्हें उन्नीस सौ अट्ठानवे का वो सर्द दिसम्बर?

तुम होती यहाँ इन दिनों तो खूब खुश होती. एकदम तुम्हारे टाइप की ठंड पड़ रही है आज कल, जैसा दिसम्बर तुम्हें पसंद है,...

लव इन दिसम्बर: साड़ी, कोहरा और उतरता बुखार

"तुम पागल हो क्या? बस कुछ ही दिन बचे हैं दिसम्बर में और तुम्हें अपनी नींद की पड़ी है? ज़ुकाम की चिन्ता है? शर्म...

आ कहीं दूर चले जाएं हम, दूर इतना कि हमें छू न सके कोई ग़म

लड़की की कल्पना भी उसके जैसी ही क्यूट और यूनिक से थे. उसके सपनों और ख्वाहिशों की अपनी एक अलग ही दुनिया थी, जहाँ...

द रिकॉर्ड इज वन ट्वेंटी सेकंड – लव इन दिसम्बर – १५

सुनो, दिसम्बर की पहली तारीख है आज! याद है कुछ? याद है पहले जब हम साथ थे, हम दोनों मिल कर कैसे इस तारीख...

मोहब्बतें वाली एक सुबह

दिसंबर का महीना था, और शहर से कोहरा और ठंड एकदम गायब थे. ऐसा लगता था जैसे वसंत का मौसम दिसंबर के महीने में...

लोकप्रिय कहानियां

यादों में एक दिन – क्रिसमस

पच्चीस दिसंबर की वो सुबह थी. कड़ाके की ठंड पड़ रही थी...मेरी नींद अचानक किसी आवाज़ से टूटी. पहले मुझे शक हुआ था कि...

दिसंबर की एक सुबह – कोहरा, चाय और उसके नखरे

सुबह जैसे ही मेरी आँखें खुली और मैंने खिड़की से बाहर देखा तो खूब घना कोहरा छाया हुआ था. मैं एकदम खुश हो गया....

मोहब्बतें वाली एक सुबह

दिसंबर का महीना था, और शहर से कोहरा और ठंड एकदम गायब थे. ऐसा लगता था जैसे वसंत का मौसम दिसंबर के महीने में...

लव इन दिसम्बर

"मैंने अगर कोई फिल्म बनाई कभी..तो फिल्म जैसी भी बने आई डोंट केअर...फिल्म का नाम अच्छा होना चाहिए...जैसे????  लेट मी थिंक..स्वीट दिसम्बर..या लव इन दिसम्बर...या...

प्यार का सफ़र

A Home For Love Stories In Hindi

प्यार की कहानियों का पता है यह वेबसाइट. दस सालों से आप तक प्यार की कहानियां ला रहा है ये साईट.अगर अब तक आप जुड़े नहीं हैं तो जल्द जुड़िये इस वेबसाइट से ताकि आप तक प्यार की कहानियां समय से पहुँच जाया करे

कहानियाँ सीधे आपके इनबॉक्स में

इस साईट पर आने वाली सभी कहानियां, कवितायेँ, शायरी अब सीधे अपने ईमेल में पाईये!

लव इन दिसम्बर सीरीज

याद है तुम्हें उन्नीस सौ अट्ठानवे का वो सर्द दिसम्बर?

तुम होती यहाँ इन दिनों तो खूब खुश होती. एकदम तुम्हारे टाइप की ठंड पड़ रही है आज कल, जैसा दिसम्बर तुम्हें पसंद है,...

लव इन दिसम्बर: साड़ी, कोहरा और उतरता बुखार

"तुम पागल हो क्या? बस कुछ ही दिन बचे हैं दिसम्बर में और तुम्हें अपनी नींद की पड़ी है? ज़ुकाम की चिन्ता है? शर्म...

आ कहीं दूर चले जाएं हम, दूर इतना कि हमें छू न सके कोई ग़म

लड़की की कल्पना भी उसके जैसी ही क्यूट और यूनिक से थे. उसके सपनों और ख्वाहिशों की अपनी एक अलग ही दुनिया थी, जहाँ...