Abhi

इस असाधारण सी दुनिया में एक बेहद साधारण सा व्यक्ति हूँ. बस कुछ सपने के पीछे भाग रहा हूँ, देखता हूँ कब पूरे होते हैं वो...होते भी हैं या नहीं! पेशे से वेब और कंटेंट डेवलपर, और ऑनलाइन मार्केटर हूँ. प्यारी मीठी कहानियाँ लिखना शौक है.

कोहरे पर लिखा एक नाम

वह दिसंबर की एक सर्द सुबह थी. ठण्ड इतने कि रजाई से निकलने का मन न करे, पर जल्दी उठना लड़के की मजबूरी थी....

बारिशी मोमेंट्स

हम दोनों की कहानी किसी फिल्म से कम नहीं थी. वो अक्सर कहती थी मुझसे, देखना हम दोनों के प्यार पर फ़िल्में बनेंगी और...

वे दिन, स्पेगेटी और वो दाग – [ दिल्ली डायरीज ]

ठण्ड और कोहरे से लिपटी दिल्ली की सड़कों पर जैसे जैसे टैक्सी आगे बढ़ रही थी मुझे वो तमाम दिन दिल्ली के याद आ...

आँखों में बसी हो पर दूर हो कहीं.. [दिल्ली डायरीज ]

काफी सालों बाद इस शहर में आ रहा हूँ. वैसे ज्यादा साल तो नहीं हुए, बस तीन चार साल ही तो हुए हैं अभी...

आधी नींद…अधूरे ख़्वाब और एक सुहावना सफ़र

पहले की कड़ियाँ  भाग एक, भाग दो शाम गहराने लगी थी.. दोनों टेरेस से नीचे उतर आये थे. बारिश अब जोरदार होने लगी थी. लड़की...

नदी, ख्वाहिशें और कुछ ख़्वाब अधूरे से…

रात लड़के ने होटल में नहीं बल्कि एक ट्रेन के कूपे में बिताया था. ये भी एक मजेदार किस्सा था. एक दिन पहले जब...

बारिश, सनशाइन और कोलकता – कोलकता डायरी

दो दिन से लगातार बारिश हो रही थी. सारे काम रुके पड़े थे. बाहर आने जाने के सारे कार्यक्रम टल गए थे. यूँ तो...

मीट क्यूट

“मीट क्यूट?” “हाँ मीट क्यूट...” “क्या बोल रही हो? ऐसा कोई भी शब्द नहीं है..” “है...है ऐसा शब्द.. तुम्हें क्या पता. याद है हमारी शुरुआत की कुछ मुलाकातें?” “हाँ...

मीना कुमारी की शायरी(पांच)

मेरे महबूब जब दोपहर को समुन्दर की लहरें मेरे दिल की धड़कनों से हमआहंग होकर उठती हैं तो आफ़ताब की हयात आफ़री शुआओं से मुझे तेरी जुदाई को बर्दाश्त...

Stay in Touch

इस असाधारण सी दुनिया में एक बेहद साधारण सा व्यक्ति हूँ. बस कुछ सपने के पीछे भाग रहा हूँ, देखता हूँ कब पूरे होते हैं वो...होते भी हैं या नहीं