Home Letters For You

Letters For You

तुम्हारे नाम लिखी आठवीं चिट्ठी

वो एक उदास और तन्हा शाम थी.सुबह एक बुरी खबर मिली थी और पूरा दिन मैं काफी बेचैन सा रहा.शाम तक मेरा मन काफी...

तुम्हारी आवाजों के कुछ टुकड़े

वो बेहद तनहा कर देने वाली शाम थी.रात से ही लगातार बारिश हो रही थी..दिन में कभी कभी हवा अचानक से तेज हो जाती,...

तुम्हारे नाम लिखी एक और चिट्ठी

(बड़ा अन्यूजवल सा पोस्ट है, शायद ऐब्नॉर्मल और बेतुका भी...तो अपने रिस्क पर ही पोस्ट पढ़ें)बड़ी मुश्किल से कल रात मैने सुलाया खुद को इन आंखो को...

लव इन दिसम्बर (२)

दिसंबर-बारिश-सर्द हवा और चाय--है न एकदम तुम्हारे टाईप का डेडली कॉमबिनेसन...बस एक कोहरे की कमी थी, नहीं तो पूरा सेटिंग वैसा ही होता जैसा...

लव इन दिसम्बर

"मैंने अगर कोई फिल्म बनाई कभी..तो फिल्म जैसी भी बने आई डोंट केअर...फिल्म का नाम अच्छा होना चाहिए...जैसे????  लेट मी थिंक..स्वीट दिसम्बर..या लव इन दिसम्बर...या...

चिट्ठी

तुम्हे भूल पाना कब आसान रहा है.जब भी कोशिश करता हूँ नाकाम ही होता हूँ.कोई अपने जिंदगी के सबसे खूबसूरत इग्यारह साल कैसे भुला...

तुम बिन

दो तीन दिनों से जबरदस्त मूड स्विंग हो रहा है.जब कभी लगता है की मन बहुत दुखी है, ठीक उसी समय कहीं से कोई एक...

कुछ टुकड़े डायरी के पन्नों से

** सच, मैं अब तुम्हे याद करना नहीं चाहता..तुम्हे भूलने की हर कोशिश करता हूँ, लेकिन फिर भी तुम याद आती हो.तन्हाई में, जब अकेले...

तुम्हारे खत

रात कुछ काम से एक पुराना फ़ाइल फोल्डर खोला, मकसद तो था एक गुम हुआ रसीद ढूँढना...लेकिन फोल्डर खोलते ही तुम्हारे खतों पे नज़र...